माँ कात्यायनी शक्तिपीठ, खगड़िया में आपका स्वागत है !

यह मिथक सुविख्यात है. कि दक्ष-यज्ञ में शंकर के अपमान से मर्माहत सती ने आत्मदाह कर लिया था शोकाकुल महादेव विक्षुप्त हो गये. सती के शव को कंधो पर लिए उन्होने रूद्ररूप में तांडव शुरु कर दिया था. सृष्टी को अवश्यम्भावी विनाश से बचाने के लिए तब भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से सती का अंग भंग किया था. सती की दिव्य देह के विविध अंग अलग-अलग क्षेत्रों में जा गिरे थे. जहाँ-जहाँ उनके अंग गिरे, वहाँ-वहाँ शक्ति पीठ बन गये. भारत में ऐसे शक्ति पीठों की कुल संख्या 52 मानी गयी है | शक्ति पीठ लोक वन्दित उर्जा के केंद्र है. सदा नीरा कोशी के पुण्य तट पर अवस्थित पुण्य भूमि पर सती का दाहिना हाथ गिरा. यह हाथ अपने साथ अपार उर्जा और वरदान लेकर गिरा.

कात्यायनी शक्ति पीठ अनेक कारणों से सभी शक्तिपीठों में अद्वितीय है. भगवती कात्यायनी चौथम राज की कुल देवी है. लोकास्था, लोकगीत (अहिरायन) में विद्यमान इस सत्य का उल्लेख करना जरुरी है कि चौथम के राजा मंगल सिंह (मुरार साह) की मित्र श्रीपत महाराज के पास शताब्दिक गायें थी. जिनमें से एक गाय एक खास स्थान पर खड़ी होकर प्रतिदिन अपने थन से दुध गिराती थी. जब इस चमत्कार की जानकारी राजा मंगल सिंह को मिली तब उनके आदेश से उस स्थान की खुदाई की गई. जिसमें कात्यायनी माता का पिंड (दाहिना हाथ) मिला. राजा ने 1595 ई० के आस-पास वहाँ उस पिण्ड की खोज कर मंदिर का निर्माण कराया. (भिट का मंदिर) इस ऐतिहासिक सत्य का उल्लेख ब्रिटिश सरकार मुंगेर जिला गजिएटियर 1926 में है. इसी वंश में तत्कालीन राजा सुरेन्द्र नारायण सिंह के द्वारा मंदिर के आस-पास की जमीन उन्होनें दान में दिया. वे चौथम राज के अंतिम शासक थे.